//कोई वक़्त को रोक लेता

कोई वक़्त को रोक लेता

By |2020-02-19T11:45:02+00:00February 19th, 2020|Inspiring Story|

कितनी अजीब बात है न,कि हम लोग सच्चे प्यार को ढूंढते-ढूंढते सायद अपनी पूरी उम्र निकाल देते हैं ।
हम लोग सही गलत का फर्क ही पता करते रह जाते है ,…
वाकई ये वक़्त कितना बड़ा खिलाड़ी है ,…
ये आज समझ आ रहा है जब मैं इस घर से जा रही हूँ।
आज मैं अपनी पूरी जिंदिगी दोबारा जी रही हूँ…
अपनी गलतियाँ याद कर रही हूँ…पर उससे ज्यादा उनके साथ बिताए हुए वो पल, जो सायद मुझे हमेशा मेरी दुनिया की याद दिलाये …आज मैं वक़्त को रोकना चाहती हूँ ….
जब छोटी थी उनकी गोद में सोती थी काश वो वक़्त वहीं रुक गया होता …
मैं जब पहली बार चली थी, तब कुछ देर और पापा के साथ चलना चाहती थी ….
मैं जब पहली बार स्कूल गयी थी मैं उस वक़्त फिर जीना चाहती हूँ …
जब मैं खेलती थी तब वो मुझे डांट दिया करते थे मेरी शैतानियों पर मुझे समझते थे ।…मुझे वो वक़्त फिर आज जीना है …
जब मैं पहली बार अपनी पहली कमाई से उनके लिए तौफे लाई थी तो उनके चेहरे की चमक मुझे और खुश कर गयी थी ….
मुझे उस वक़्त में कुछ और वक़्त जीना था …
मुझे उनके साथ कुछ वक्त और खुश होना था …
आज जब मैं जा रही हूँ तो उनसे बस इतना ही कहना चाहती हूँ मेरी गलतियों पर मुझे डांट और प्यार दोनो आप से मिला मुझे डर लगता हैं
आप से दूर होने के ख्याल से ,
कैसे कहूँ की मैं नही चाहती ये वक़्त गुज़रे मैं आज के बाद कही भी कभी आप सब को नही देख पाउंगी ….
आज जब मैंने सुकून ढूंढ लिया तो जिंदिगी और वक़्त ने मेरा साथ नही दिया …
आज मैं आप सब से बहुत दूर जा रही हूँ बस दुःख ये है की ये मैं अब तक जता नही पायी की मैं कितना प्यार करती हूं आप सब रहे ….
काश आप सबके साथ ये लम्हे और जी पाती…
मैंने आज भी तो घर से निकलने से पहले बोला था जल्दी आऊँगी …
पर वक़्त ने दूरियाँ आज खत्म नही होने …
आज लग रहा बहुत देर हो गई …बस मेरे जाने पे आप मुझे माफ़ करना और आशु न बहाना ….
मानती हूँ आप मैं अब नही मिल पाएंगे पापा …पर मैं हमेशा आपकी यादों में आपके दिल मे रहूंगी …
आज मुझे सुकून के पल मिले आप सबके साथ तो ज़िंदगी ने ही मोड़ लिया …
अभ्यांश से भी बोलना की अब अविका का इंतजार न करे ….
और अब आप लोग भी मेरा इंतज़ार न करना …
जानती हूँ ये अब आसान तो नही होगा किसी के लिए भी….आज मुझे ये नही पता था कि मैं खुद चल कर घर नही आऊँगी मुझे नही पता था , ये मेरे अनोखे सपने आज मेरी और आपकी दूरियाँ बढ़ा देगे ….
जाते वक्त बस जाना चाहती थी और अब जा रही तो रुकना चाह रही ये वक़्त भी गुज़रता जा रहा ….

आज भी वक़्त नही रुकेगा …
मैं कैसे इस वक़्त को समझाऊ मुझे भी थोड़ी खुशिया और चाहिये …
मैं किसी को ज़िम्मेदार नही मानती इस गलती के लिए पर मैं अब अपनी ज़िंदगी को छोड़ के जा रही हूँ ….
मैं अब जल्दी नहीं आ पाऊँगी माँ ….
आज का वक़्त भी गया
काश कोई वक़्त को रोक लेता।।।

कोई वक़्त को रोक लो
मुझे उनकी बहो में ,कुछ वक्त और सोने दो
मुझे उनकी गोद में, कुछ वक्त और खोने दो ,
कोई वक़्त को रोक लो
मुझे उनके साथ अभी ,थोड़ा चलने दो
अरे मुझे थोड़ा बड़ा, तो होने दो
कोई वक़्त को रोक लो
मुझे उनके साथ ,थोड़ा और खेलने दो
अरे मुझे थोड़ा ,डांट तो खाने दो
कोई वक़्त को रोक लो
मुझे थोड़ा प्यार थोड़ा दुलार,तो पाने दो
अरे मुझे अभी स्कूल तो , जाने दो
कोई वक़्त को रोक लो
मुझे उनके साथ अभी ,थोड़ा और खुश होने दो,
अरे मुझे अभी थोड़ा समझदार तो होने दो ,
कोई वक़्त को रोक लो
मुझे उनके लिए , कुछ और तौफे तो लाने दो
अरे उन्हें मेरी वजह ,से थोड़ा और खुश तो होने दो
कोई वक़्त को रोक लो
मुझे उनके साथ कुछ ,और पल जीने दो ..
उनसे कह दो मुझे रोक लो ,मत जाने दो
कोई वक़्त को रोक लो ,कोई तो वक़्त को रोक लो

#नन्दनी प्रजापति

0

About the Author:

Leave A Comment