/, Love, People/परम सृजन

परम सृजन

By |2020-02-26T14:15:48+00:00February 26th, 2020|Inspiring Story, Love, People|

परम सृजन 

उनकी शादी को लगभग 10 साल हो चुके हैं एक खुशहाल परिवार एक खुशहाल जिंदगी है और उसमें कहीं भी कोई तनाव नहीं है कोई द्वेष नहीं है ना ही कोई इच्छा शेष है और बेहद संजीदगी से वे लोग अपनी जिंदगी बिता रहे हैं इनफैक्ट जी रहे हैं.

क्योंकि जिंदगी बिताना इस बात का सबूत है कि आप मजबूरी में जिंदगी बिता रहे हैं, उसे जी नहीं रहे।  और जीना इस बात का सबूत है कि आप जिंदगी को उसके मजे के साथ खुशी और संतुष्टि के साथ जी रहे हैं

लेकिन पिछले कुछ दिनों से उनकी जिंदगी में एक खालीपन है वह बासीपन सा  ऐसा लगता है कि वह जिंदगी में कुछ मिस कर रहे हैं यह मिस क्या है इस बात का वह पता करने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन उन्हें जवाब मिल नहीं रहा है उन्हें इस बात का इल्म है कि वह कुछ मिस कर रहे हैं लेकिन वह क्या है यह उनकी सोच से कोसों दूर है और वह हर संभव प्रयास करते हैं उसको ढूंढने का लेकिन ढूंढ नहीं पाते पर एक उदासी उनकी जिंदगी में है और वह उदासीनता लगातार बढ़ रही है और वह दोनों ही परेशान हैं उस चीज को ढूंढने में जिसकी वजह से उनकी जिंदगी में यह परेशानी आई है हालांकि उन्होंने लव मैरिज की थी और उनकी जिंदगी में प्रेम की कहीं कोई कमी नहीं है ऐसी किसी चीज की कोई कमी नहीं है जो उनकी जरूरत हो और उनकी पहुंच से दूर हो और ऐसा भी नहीं है कि उनमें कोई बहस होती हो या फिर कोई झगड़ा होता हो कोई झगड़ा नहीं है।  कोई तुनक मिजाजी नहीं है कोई द्वेष नहीं है कोई ईर्ष्या नहीं है फिर भी जिंदगी में कुछ खालीपन है। वह खालीपन क्या है? जो दोनों को खोखला कर रहा है और दोनों ही उसका जवाब ढूंढना चाहते हैं लेकिन मिल नहीं पाता।

राधिका इस बात को लेकर अब थोड़ा सा परेशान होने लगी है वह इस सवाल का जवाब चाहती है और आज जबकि उसके ऑफिस में कोई काम नहीं है और वह अपने केबिन में बैठी हुई है वह यह सोच लेना चाहती है इस सवाल का जवाब ढूंढ लेना चाहती है कि वह क्या चीज है जिसकी वजह से उनकी जिंदगी में यह खालीपन आ गया है उसने अपनी ऑफिस चेयर को थोड़ा लूज किया और पीछे की तरह उस पर निढाल हो गई उसने अपनी आंखें बंद की और उन बंद आंखों में ख्वाबों कि तह को खंगालने लगी। वह अपने सपनों की दुनिया में गोते लगाती हुई ढूंढ रही है एक ऐसे  सवाल का जवाब जिसका उसको भी नहीं पता कि क्या है? उसकी आंखें बंद है और वह आज अपनी आंखें तभी खोलना चाहती है जब वह उस सवाल का जवाब पा ले। और उस सवाल का जवाब ढूंढते ढूंढते उस चेयर पर निढाल होकर बैठे हुए उसे तकरीबन 1 घंटा हो गया और अचानक से वह उठी और चिल्लाई यश आई फाइंड इट मैंने ढूंढ लिया। आई गॉट इट। जिसकी वजह से वह परेशान थी और ऐसा लगा कि उसको वह सवाल मिल गया जिसकी वजह से उनकी जिंदगी में खालीपन था और उसके चेहरे पर एक मुस्कान थी एक मुस्कुराता हुआ चेहरा ऐसा लगता था कि चांद की तरह दमक रहा है जिसका निखार किसी की भी सुंदरता को चार चांद लगा दे।  वह बहुत खुश थी उसने तुरंत ही टेबल पर रखा हुआ अपना फोन उठाया और राहुल को फोन किया उधर से राहुल ने तुरंत उसका जवाब दिया 

राधिका बोलती हे राहुल तुम जानते हो हमारी जिंदगी में यह एक अजीब सा खालीपन क्यों है ? राहुल बड़ा आश्चर्य भाव से उसे पूछता है  क्यों ? 

 मैंने ढूंढ लिया  वो क्या चीज़ है जिसकी वजह से हमारी जिंदगी में इतना खालीपन आ गया

 क्या है वह चीज बताओ मुझे ? 

मैं तुम्हें फोन पर नहीं बताऊंगी, घर पर बताऊंगी, पर मैंने ढूंढ लिया है। 

 घर पर क्यों? 

इट्स पर्सनल ना बाबा? वो लगभग झल्लाई

 राहुल बहुत खुश होता है और वह फोन रख देती है

अब वे दोनों ही शाम होने का बहुत बेसब्री से इंतजार कर रहे थे शाम हुई और दोनों घर पहुंचे उन्होंने एक दूसरे को देखा राहुल ने सबसे पहले यही पूछा और राधिका ने कहा अभी नहीं मैं तुम्हें सोने से पहले बताऊंगी और फिर राहुल बोला कम ऑन यार तुम ऐसे मुझे और इंतजार मत कराओ बता भी दो 

राधिका ने कहा नहीं अभी नहीं सोने से पहले 

ठीक है ओके

और वह वक्त भी आ गया जब वह सोने के लिए अपने बेडरूम में पहुंचे राहुल बेड पर बैठा एक किताब पढ़ रहा था. 

राधिका आई राहुल ने तुरंत वह किताब डेस्क पर रख दी और तुरंत राधिका की तरफ देखकर बिना कुछ सोचे उसने पूछा और राधिका उसके सामने बेड पर बैठ गई। उसने राहुल के दोनों हाथ अपने हाथों में लिए उसकी आंखों में देखने लग गई अब वह दोनों एक दूसरे को देख कर मुस्कुरा रहे थे थोड़ी देर वो यूं ही बैठे रहे और ऐसा लगा एक दूसरे की आंखों को पढ़ने की कोशिश कर रहे हैं उन्होंने एक दूसरे की आंखों में देखा और शायद तब तक देखा जब तक कि वह एक दूसरे के सवालों के जवाब ढूंढ ना ले फिर राहुल के सब्र का इम्तिहान टूट गया और राहुल ने राधिका से पूछा अब बोलोगी भी कुछ तब राधिका ने उसकी ओर देखकर कहा राहुल तुम जानते हो पिछले कुछ दिनों से हम क्या मिस कर रहे हैं और वह चीज क्या है जिसने हमारी जिंदगी में एक खालीपन कर दिया है राहुल ने चिड़चिड़ाते हुए लगभग कहा हां बाबा बता भी दो

राधिका ने राहुल से कहा देखो हम खुश हैं हम एक दूसरे को प्यार करते है एक दूसरे के साथ अच्छा टाइम स्पेंड करते हैं और अपने अपने परिवार का ख्याल रखते हैं और एक-दूसरे की जरूरतों का भी ख्याल रखते हैं लेकिन एक चीज है जो जो हम शादी के बाद से लगातार वैसे ही करते चले जा रहे हैं और उसको वैसे ही करते चले जाने से हमारी जिंदगी में बोरियत आ गई है । और वह काम, हम उस काम को ऐसे निपटा देते हैं जैसे कि यह एक काम है और हमें इसको बस खत्म करना है हम उस काम को इंजॉय नहीं करते हैं और उस काम का मजा नहीं लेते उसमें रस नहीं लेते हैं उस काम को डूबकर नहीं करते हैं जैसे कि हमें वह करना चाहिए राहुल की आंखें अब थोड़ी बड़ी हो गई उसने उसकी आंखों में देखते हुए कहा और वह काम क्या है ? 

राधिका ने कहा सेक्स!! 

अब राहुल को थोड़ी शरारत सूझी उसने उसके दोनों हाथ को जोर से दबाया और उसको देखते हुए कहा-  अच्छा सेक्स वह तो हम रोज करते हैं

 तब राधिका ने कहा इसीलिए,  हम उसको रोज करते हैं लेकिन ऐसे करते हैं जैसे वह बस करना है और फटाफट निपटा देते है  खत्म कर देते हैं जैसे कि वह हमारी स्लीपिंग पिल्स है करते हैं और सो जाते है।

 ओ माय बेबी वांट मोर सेक्स

 राधिका सेड नो नो आई मीन हम उसको इंजॉय नहीं कर रहे हैं तुम नोट करो राहुल सोचता है और थोड़ी देर सोचने के बाद उसने कहा हां राधिका तुम शायद सही कह रही हो लेकिन इसका सलूशन क्या है राधिका ने कहा इसका सलूशन यह है कि हम पति-पत्नी है लेकिन हम एक दूसरे से उकता गए हैं।  एक जैसी चीज एक जैसा काम करते करते, 

और इसलिए अब हम क्या करेंगे हम रोल प्ले करेंगे और जब भी सेक्स करेंगे तो हम एक डिफरेंट रोल प्ले करेंगे। तुम और मैं कुछ भी होंगे बस पति पत्नी नहीं होंगे और हम उसके बाद रोमांस करेंगे और धीरे धीरे

 राहुल ने उसके गले में हाथ डालकर कहा ओ माय गॉड यू आर  वरी नॉटी हां यह सच है ओके फिर हम क्या करेंगे उसके बाद राधिका राहुल को समझाने लग गई के  आज मैं तुम्हारी वाइफ नहीं हूं तुम वहां से दरवाजे से आओगे तुम को कोई और हो यू आर नॉट माय हस्बैंड, और तुम मुझे पटाने की कोशिश करोगे और ऐसी बात करोगे जैसे की पहली बार मुझ से मिले और मुझे पटाने की कोशिश कर रहे हो और ऐसे हम धीरे-धीरे इसको आगे बढ़ाएंगे और अंत में सेक्स तक लेकर जाएंगे राहुल ने कहा ओके एंड लेट्स स्टार्ट दिस

राहुल उठकर बाथरूम में चला जाता है और वहां से वापस आता है अब वह राहुल नहीं है वह कुछ और हैं वह बदल गया है वह एक अजनबी होने की एक्टिंग कर रहा है सामने बेड पर एक लड़की बैठी है जिसको वह लुभाना चाहता है वह धीरे-धीरे आगे बढ़ता है और सिटी मारता है सिटी बैठते ही वह लड़की उसकी तरफ देखती है तब वह उसकी तरफ इशारा करता है ब्यूटीफुल वह लड़की उसको कोई भाव नहीं देती फिर धीरे-धीरे वह आगे बढ़ता है और उसको अपने साथ मूवी देखने के लिए ऑफर करता तब लड़की उससे पूछती है कौन ? और तब राहुल जवाब देता है – राज नाम तो सुना ही होगा यह डायलॉग सुनकर राधिका की हंसी छूट जाती है और वह मिलकर फिर दोनों हंसने लगते हैं 

राधिका – क्या यार  तुम ठीक से करो तुमने मुझे क्या कहा था कॉलेज में, ऐसा कुछ करो कुछ अलग सा

राहुल वापस बाथरूम में गया उसने वह पड़ा हुआ हेट अपने सिर पर ताना और गले में एक रुमाल बांध लिया वह बिल्कुल लाफर की तरह लग रहा था उसने बाहर आकर राधिका को इशारा किया और बेबी चलती क्या 9 से 12 और राधिका ने जवाब दिया क्यों ? अरे मूवी  देखेंगे और उसके बाद मजा करेंगे 

राधिका ने कहा – अच्छा और मजा कैसे करेंगे तब राहुल ने कहा एक दूसरे के साथ और वह जाकर उसके सामने बेड पर बैठ गया और मानो वह भूल ही गए कि वह कौन है और फिर एक दूसरे के साथ थोड़ा प्यार में खोने लगे लेकिन राहुल थोड़ा परेशान लग रहा था वह अजीब सा महसूस कर रहा था। उसके भीतर एक अजीब सी बेचैनी थी और वह ना तो राधिका को ठीक से छु पा रहा था ना ही उसको ठीक से किस कर पा रहा था राधिका रुकी उसने उसकी आंखों में देखा और पूछा क्या हुआ तब राहुल ने कहा यार सॉरी मुझे कुछ अच्छा नहीं लग रहा राधिका ने पूछा क्यों तब राहुल ने कहा यार अगर मैं अपने आप को कुछ और महसूस कर रहा हूं अपने आप को कुछ और रख कर सोचता हूं तो मेरे भीतर तुम्हारे लिए फीलिंग ही नहीं आ रही। और मै तुमसे प्रेम करता हूं और सेक्स भी तुमसे ही कर सकता हूं। मेरी फीलिंग तुम्हारे लिए है किसी और के लिए नहीं। जब मै सोचता हुं  ऐसा लगता है यह एक लड़की है जो किसी की बहन है किसी की बेटी है किसी की मां तुम्हारे लिए वह फीलिंग नहीं आ रही लेकिन जब मैं अपने आपको पाता हूं कि मैं राहुल हूं तुम्हारा पति तब मेरे भीतर तुम्हारे लिए प्यार उमड़ जाता है राधिका ने उसकी आंखो में आंखे डालकर कहा ! सच!! 

उसने हां में गर्दन हिलाई 

राधिका ने उसको पकड़ा और उसको किस करते हुए जोर से अपनी बाहों में भर लिया और उसको आई लव यू राहुल कहा।

वो दोनो बिस्तर पर लेट गए और राहुल लगभग सो गया। राधिका के मन में ख्यालों का ज्वार भाटा चल रहा था। वह सोच रही थी कि अगर हर मर्द ऐसा हो जाए तो ये दुनिया कितनी हसीन हो जाएगी महिलाओं के लिए। और इस भावना से ही शायद हम रेप जैसे घिनौने कृत्य को रोक सकते है। फिर प्यार सिर्फ प्यार नहीं रहेगा वो परमात्मा का परम सृजन बन जाएगा। 

कैलाश मेहरा 

kailashmehra96@gmail.com

+919717680775

0

About the Author:

Leave A Comment