//भरम टूट गया

भरम टूट गया

By |2020-02-11T13:11:52+00:00February 11th, 2020|Inspiring Story|

मिनी 19 वर्षीय बेहद खूबसूरत और हद से ज्यादा महत्वाकांक्षी लड़की है । वह बेहद सुंदर है पर उसे तो कम ही लगता है क्योंकि उसकी नाक छोटी जो है ।
हमारी और आपकी नजरों में उसके पास किसी चीज की कमी नहीं । एक भरी पूरी और बहुत ही प्यारी फैमिली है उसकी । घर में सुख सुविधाओं की भी कोई कमी नहीं है , लेकिन फिर भी मिनी को हमेशा दूसरों की चीजें, उनकी फैमिली ज्यादा अच्छी लगती ।
..वह हमेशा अपने पापा से कहती..” पापा ! मेरी सारी सहेलियों के पास कार है ,मुझे स्कूटी से कॉलेज जाना अच्छा नहीं लगता ।”
तो इस बार उसके जन्मदिन पर उसके पापा और भाइयों ने मिलकर किसी तरह पैसे इकट्ठे कर उसके लिए एक कार गिफ्ट की । पर बजाय खुश होने के उस ने यह कहा कि….” क्या पापा यह भी कोई कार है ? इतनी सस्ती …कम से कम कोई अच्छी कंपनी की कार लाते ।
उसके पापा को बहुत दुख हुआ क्योंकि वह बड़े मन से यह कार उसके लिए लाए थे पर उसकी जिद के आगे उन्हें उसे वापस करनी पड़ी ।
अब आते जाते हर जगह मिनी को कार ही कार दिखाई देती उसे अपने दोस्तों से ईर्ष्या होने लगी और अपनी फैमिली से भी नाराज रहती । सबने उसे समझाने की बहुत कोशिश की पर उसे तो बस महंगी कार में ही सारी खुशी दिखती ।
वह भाइयों से भी नाराज रहने लगी ,उसे लगता कोई उसकी परवाह नहीं करता ।
उसके पिता ने उसे 1 दिन बैठाकर समझाया कि बेटा.. बेशक यह सब जरूरी है पर बेटा इनसे सच्ची खुशियां नहीं मिलती । हम तुमसे कितना प्यार करते हैं , तुम्हारी फिक्र करते हैं बेटा , यह असली खुशी होती है । तुम्हारा परिवार तुम्हारे दोस्त ।
तब मिनी बोली ..”पापा आप तो रहने ही दो , आप नहीं समझोगे । स्टेटस नाम की भी कोई चीज होती है । जब मेरी सहेलियां ब्रांडेड कपड़े पहनती हैं और महंगी महंगी कारों से उतरती हैं तो मुझे कैसा फील होता है,  आप नहीं समझोगे । और यह कहते हुए वह बाहर चली गई यह बोलकर कि वह अपनी सहेली मीना के घर जा रही है ।
मीना उसकी दोस्त है और मध्यवर्गीय परिवार से आती है वह मिनी के स्वभाव  से भली-भांति परिचित है इसलिए यहां उसकी  ज्यादा चलती है क्योंकि मीना कभी दिखावा नहीं करती, ना सबके जैसा बनने की होड़ रहती उसमें ।
मिनी तो उसका मजाक उड़ाती और वह कुछ नहीं कहती ।

   मिनी आटो के लिए चौराहे पर रुकी थी और सड़क पर आती जाती महंगी कारों को हसरत भरी निगाहों से देखती । काश मेरे पास भी बड़ी , लग्जरी कार होती तो यहां , ऐसे धूप में ऑटो का वेट नहीं करना पड़ता ।
तभी उसके सामने एक बड़ी सी कार,  जो तेजी से आ रही थी , सामने से आते ट्रक से जा टकराई ।
उसकी चीख निकल गई । टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि कार चकनाचूर हो गई । मिनी की आंखें फटी रह गई।
कार में सवार चार लोगों की मौके पर ही मौत हो गई । पुलिस, एंबुलेंस , भीड़ चीखें सब गड्डमड्ड हो गया ।
उसे कुछ समझ नहीं आ रहा था । एक पुलिस वाले ने कहा “बेटा आप  थोड़ा पीछे  खड़े रहो , यहां नहीं । तब उसका ध्यान टूटा …
उन लाशों को देख वो  सहम गई । तभी एक और लग्जरी गाड़ी आई  जिसमें से कुछ लोग रोते बिलखते उतरे, शायद मृतकों के परिजन थे, उन्हें देख और एक्सीडेंट का दृश्य     देख   मिनी  °°°° का सारा भरम टूट गया ।°°°°

       उसे अपने मम्मी पापा और भाई याद आए । वह बदहवास से भागती हुई घर पहुंची और अपने पापा से लिपट कर रोने लगी । वह कुछ समझ पाते इससे पहले वह बोली… पापा मुझे कार नहीं चाहिए , मुझे कुछ नहीं चाहिए मुझे बस आप लोग चाहिए । सॉरी पापा
“हां हां ठीक है पहले तुम शांत हो जाओ , मिनी की मां बोली तो वह उनसे भी लिपट गई और बोली… सॉरी मम्मा आप बहुत अच्छी हो और अब बहुत अच्छा पास्ता बनाती हो रिया की मम्मी से भी ज्यादा ।  सभी चकित थे उसके व्यवहार से पर खुश थे । उन्हें उनकी बेटी जो वापस मिल गई थी और मिनी भी पहले से ज्यादा शांत और खुश  थी अपने परिवार के साथ क्योंकि दिखावे का सारा भरम उसका टूट चुका था…..

written by ●●● vidya sharma

0

About the Author:

Leave A Comment