//Win or lose (जीत या हार)

Win or lose (जीत या हार)

By |2020-02-19T13:58:24+00:00February 19th, 2020|Inspiring Story|

– Win Or Lose (जीत या हार)

ये कहानी है, एक लड़के यश की जो अपनी जिंदगी से हार कर बैठा होता है, और दुनिया में अपने लिए कुछ अलग करना चाहता है, वो उसके आस पास के लोग उसकी आलोचना करते है, इसलिए वो उनको बताने के लिए कुछ अलग करना चाहता है ।

एक लड़का, दुखी मन से उदाश होकर एक पार्क में बैठा था, तब वहाँ पर एक आदमी आता ।

  1.          आदमी (शिव)

मैं तुमको यहाँ पर काफी दिनों से देख रहा हूं, तुम अपनी जिंदगी से काफी परेशान लग रहै हो, क्या हुआ है, तुमको इतने उदाश क्यों बैठे हो ।

                वो लड़का (यश)

कुछ नही बस यूही कुछ सोच रहा हूं, पर बता नही सकता ।

                      शिव

क्यों बता क्यों नही सकते, मुझे लगता है, की बाते share करने से दिल और दिमाग को अच्छा लगता है, तो तुमारे मन में जो भी हो तुम मुझे बता सकते हो शायद मैं तुमारी कुछ मदद कर सकता हूं ।

                      यश

मेरे मन में कुछ सवाल है, क्या आप उनको बताकर मेरी मदद कर सकते हो ।

                      शिव

देखता हूं, अगर बताने लायक होगी, तो जरूर बताउगा ।

                      यश

मुझे समझ नही आता, की जिंदगी में हमेशा जीतना जरूरी होता है क्या जीत हार से बड़ी होती है, क्या हुआ अगर हम 1 बार हार गये, लोग ये क्यों नही कहते चलो 1 बार हार गये कोई बात नही अगली बार और मेहनत करके इससे अच्छा करेगे ।

                      शिव

बात ये नही है की जीते हो या हारे, बात तो ये है, की तुमने अपनी हार या जीत से क्या सीखा, एक बात समझ लेना तुम की अगर जिंदगी में कुछ करना है तुमको तो हारना सीखना पड़ेगा, क्योंकी हार तुमको कुछ ना कुछ सिखा के जाती है, जीत तुमको वही पर बने रहना, क्योंकि अगर तुम अपनी जिंदगी में लगातार जीतते रहे, अचानक तुमको कोई हराकर चला जाये, तब तुमको बापस उठने में काफी समय लगेगा, क्योंकि उस समय तुमको अपने अंदर की कमिया नही पता होगी, इसलिए जिंदगी में हारना सीखो जिससे तुमारी कमिया दूर हो सके, फिर फर्क नही पड़ता, की दुनिया बाले क्या कहेगे क्या नही, उनको कहने तब तक जब तक की तुम कुछ करके नही दिखते, और जिस दिन तुमने कुछ बड़ा कर दिया ना, तब देखना जो आज तुमारी आलोचना करते है, कल वही तुमारे जैसे बनने की कोशिश करेगे, और हा हमेशा हार जीत से बड़ी होती है, क्योंकि हार हमको हमारा लश्य हमारी खुली आखो से दिखाता है, इसलिए हार से कभी डरना नही, फिर चाहे तुम 1 बार हारो या 2 बार, बस बापस उठने की दम रखो ।

                      यश

क्यों हम कुछ अलग करने जाये, तो हमे पहले ही रोक दिया जाता है, क्यों उसकी आलोचना करने लगते है सब ।

                      शिव

क्योंकि उनको उतना बिस्वास नही होता है की तुम ये सब कर सकते हो, वो सोचते है, की इसकी लाइन बहुत लंबी है, और कुछ भरोशा नही की वो लाइन कभी ख़त्म भी होगी, बस तुम उनसे जाकर इतना कह देना की भले ही लाइन लंबी हो लेकिन टूट तो सकती है ना, कल अगर गलती से ये लाइन टूट गयी, और मैं लाइन में सबसे आगे आ गया, तो परसो तुम लोग भी उसी लाइन में लगने की कोशिश करोगे ।

                      यश

लेकिन मम्मी पापा का support भी उतना चाइये होता है जितना हमे अपने सपनो को पूरा करने में।

                      शिव

इस समय तुमारे मम्मी पापा तुमारा sopport इस लिए कर रहे है, क्योंकि तुम उनको अभी बिस्वास नही दिला प रहे हो, तुम जाओ और उनको शांति से समझाना, और कह देना की एक मौका दे दो बस 1 बार आप लोग साथ दे दो मेरा, अगर आप लोग साथ दोगे तभी मैं कुछ कर पाउँगा, अगर मैं इस मौके में पास नही हुआ तो आप लोग जो कहोगे वो मैं करुगा ।

5 year latter..

Sceane.2

यश को आज success की ओर होता है, उसे एक conference में उसकी success के बारे में पूछा जाता है, तब यश ।

                   यश

आज मैं इस जगह हु तो उसका सबसे बड़ा हाथ है, शिव भाई का सबसे पहले उनको मैं thankes बोलना चाहता हूं, मुझे नही पता वो कहा है कैसे है, पर जहाँ भी हो अच्छे हो, आज मैं यहाँ पर 1st या 2nd तो नही आया, लेकिन इसका दुख नही है मुझे, क्योंकि शिव भाई ने कहा था की तुम जिंदगी में हारना सीखो क्योंकि तुम अपनी हार से ही जीतना सीखोगे, इसलिए आज मुझे इस बात का दुख नही है की मैं इन लोगों से हार के जा रहा हूं, बल्कि मैं खुश हू की आज मैं यहाँ पर अपनी कुछ पहचान बनाकर जा रहा हू, बस मैं जाते जाते आप लोगों से इतना कहुगा, की जिंदगी में कुछ भी हो जाये उससे कभी डरना नही, चाहे तुम हारो या जीतो..।

……………..THE END

0

About the Author:

Hlw im a rudransha patel and im a writer and my dream is a success writer in your life

Leave A Comment

3 × 3 =